लू लगने sunstroke के लक्ष्ण-कारण और उपाय, गर्मियों में कैसे रखें अपना ध्यान

लू लगने sunstroke
Spread the love

लू लगने sunstrokeके लक्ष्ण-कारण और उपाय, गर्मियों में कैसे रखें अपना ध्यान   

लू लगने sunstroke के बारे में बात करने से पहले, हम मौसम के व्यहवार के बारे में जान लेते हैं ! मित्रो मानव परवर्ती हमेशा यही रही है, कि जो चीज चली जाती है, या समाप्त हो जाती है ! तो वह उसको बहुत याद करता है ! चाहे इसमें मौसम ही क्यों न हो ! आपने खुद भी महशुस किया होगा, और दूसरों को भी यह कहते सुना होगा, कि गर्मियों की बजाय सर्दियां अच्छी होती हैं ! और जब मौसम बदल जाता है, तो यह कहने लगते हैं कि सर्दियों से तो गर्मी ही अच्छी होती हैं ! एैसा इस लिए होता है क्योंकि हमे किसी भी मौसम में अजस्ट या अनुकूल होने के लिए कुछ समय लगता है !

जब हम उस मौसम में अपने आपको को ढाल लेते हैं ! तो कुछ ही समय बाद मौसम फिर से बदल जाता है ! फिर वही बातें होने लगती हैं कि फलां मौसम ठीक है, और ठीक नही है ! दोस्तों एैसा हमेशा चलते रहना चाहिए तभी तो हमे सभी मौसमों और ऋतुओं का आनन्द मिलता है ! हमेशा इस आनन्द के साथ – साथ हमे बदलती ऋतू और मौसम में अपना ध्यान भी रखना आना चाहिए !

हमारे शरीर का सामान्य तापमान कितना होता है ?

क्योंकि जब भी मौसम परिवर्तन होता है, तो उसका हमारे उपर बहुत प्रभाव पड़ता है ! मित्रो हमारे शरीर का सामान्य तापमान 36.1 सेल्सियस से लेकर 37.2 तक रहना चाहिए ! जब हमारे आस- पास का तापमान बढ़ जाता है, इससे हमारे शरीर का तापमान भी बढ़ता है ! और जब तापमान 42 हो जाता है, तो हमारे शरीर का तापमान भी बढ़ कर 40 सेल्सियस तक हो जाता है ! और यह बढ़ा हुआ तापमान कुछ न कुछ बीमारियाँ और समस्याएँ अपने साथ लेकर आता है ! उसी को हम लू लगने sunstroke का कारण भी कह सकते हैं ! आये इस पर चर्चा कर लेते हैं कि गर्मियों में अपना ध्यान कैसे रखें ? और लू लगने sunstroke से अपने आप को कैसे बचाएं ?

गर्मियों में लू लगने sunstroke के लक्ष्ण  :-

गर्मी के सीजन में जब तापमान बढ़ जाता है, तो इससे हमारे शरीर का तापमान बढ़ता है ! और जब यह तापमान बढकर 42 सेल्सियस से ज्यादा हो जाता है ! तो इस्सके साथ-साथ कई बार हमारे शरीर का तापमान भी 40 डिग्री तक पहुँच जाता है, तो इस समय जो समस्या पैदा होती है ! उसकी को लू लगने sunstroke का खतरा बढ़ जाता है ! दोस्तों हमारी बॉडी टेम्परेचर मेंटेन करने, या बनाए रखने के लिए शरीर से पसीना निकालता है ! और हम कुछ पानी भी पीते है, क्योंकि हमारा शरीर यह संकेत देता है ! कि हमारे अन्दर पानी की कमी हो गयी है, हमे प्यास लगती है ! तो इस लिए हम पानी पीते हैं, और इससे हमारे शरीर का तापमान मेंटेन रहता है !

गर्मियों में लू sunstroke के कारण :-

लेकिन जब किसी कारण वश हमे बहुत अधिक तेज धूप में बाहर निकलना पड़ता है ! तो गर्मी की गर्म हवा के कारण शरीर से निकलने वाला पसीन सही ढंग से काम नही कर पाता ! जिससे बॉडी टेम्परेचर को उसे कम करना चाहिए, वो यह नही कर पाता ! जिससे हमारी बॉडी का टेम्परेचर 40 सेल्सियस के उपर हो जाता है ! तो हमे कुछ लू लगने sunstroke के लक्ष्ण महसूस होने लगते हैं ! जैसे कि डिहाइड्रेशन यानि पानी की कमी हो जाती है ! और जब हम इस पानी की कमी को नजरअंदाज कर देते हैं, तो एैसे में हमे लू लग जाती है !

इसका एक और लक्ष्ण है, जब भी लू लगने sunstroke की सम्भावना होती  है ! तो शरीर का तापमान बहुत ज्यादा हो जाता है, हमे बुखर जैसे लगने लगता है ! बहुत अधिक थकन या हाथ और पैरों में जलन और दर्द महसूस होना, या फिर पेट में अजीब सा सेन सेसन होने लगता है ! इसका दूसरा लक्ष्ण है आपका मुहँ सुख जाता है, आपको बार –बार प्यास लगती है ! इससे कैसे बचें अब यह जान लेते हैं !

गर्मियों में धूप sunstroke से कैसे बचाव करें :-

लू लगने sunstroke से बचने के लिए, वैसे तो धूप हमारे शरीर के लिए किसी वरदान से कम नही है ! क्योंकि यह हमे विटामिन D प्रदान करती है ! और अन्य तरह से भी बहुत लाभदायक हैं ! जब गर्मियों के शरुआत होती है, उस समय में तो हम धूप को सहन कर लेते हैं ! लेकिन जब गर्मियां मार्च से अप्रैल की और बढने लगती हैं, तो यह धूप असहनीय हो जाती है ! जैसे हर चीज की अधिकता कुछ न कुछ दिक्कत करती है ! ठीक वैसे ही तेज धूप भी मनुष्य के साथ –साथ सभी अन्य जीवों में समस्या पैदा कर सकती है !

अधिक तेज धूप की वजह से लू लगने sunstroke से डिहाइड्रेशन, बुखर, दस्त, उल्टियाँ, और चक्कर भी हो सकते हैं ! इसके अलावा तेज धूप की वजह से हमारी स्किन पर बहुत दुष्प्रभाव पड़ता है ! इससे हमे सनबर्न और सनटैंनिग भी हो सकता है,और त्वचा काली होने लगती है !

इसे भी पढ़ें :- ज्यादा ठंडा पानी पीने के नुकशान ! फ्रिज का पानी अच्छा या घड़े का जाने अन्तर

गर्मी से और लू लगने sunstroke से बचने के उपाय

लू लगने sunstroke से बचने के लिए हम जब भी धूप में निकलें, तो हमेशा एक या दो गिलास पानी पीकर ही घर से निकलें ! और धूप से बचने के लिए हम किसी भी अच्छी स्किन क्रीम या कोई लोशन प्रयोग कर सकते हैं ! जिसकी पोटेंसी कम से कम 30 ( SPF=30 ) तो होनी ही चाहिए ! और यह आपको बाजार से आसानी से मिल जाती है ! इसके अतिरिक्त बाहर निकलने से पहले अपने खुलें अंगों को कपड़े से अच्छी तरह ढक लें, या कवर कर लें तो लू लगने sunstroke से बचा जा सकता है ! अपने बाहर के सारे काम सुबह या श्याम में निपटाने की कौशिश करें ! एैसा करने से भी हम काफी हदतक अपने को धूप से बचा पाते हैं !

पानी का सेवन भी काफी हदतक हमे धूप या लू लगने sunstroke से बचाता है ! इसलिए हमे पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन करना चाहिए !

गर्मियों के सीजन में कपड़ों का भी बहुत ध्यान रखने की जरूरत होती है !  हमें हमेशा हल्के सफेद कपड़ों ही पहनने चाहिए !

गर्मि में जब आप पैदल घर से बाहर जाते हैं, तो हमेशा छाता लेकर निकलें ! छाता हमे काफी हदतक तेज धूप से बचाता है ! यदि आपको छाता अच्छा नही लगता तो आप कोई कैप या कोई टावल या अन्य हल्का कपड़ा अपने सिर पर जरुर रखें ताकि तेज धूप से बचा जा सके !

लू से बचने वाली दवाई :-

लू लगने sunstroke से बचने के लिए हम होम्योपैथी की मेडिसन का प्रयोग भी कर सकते हैं ! इसका नाम है Glonoine 30 CH यह बहुत ही  इफेक्टिव मेडिसन है ! अगर आपको लू लग जाती है तभ भी, और लगने से sunstroke बचाने में भी बहुत इफेक्टिव मेडिसन है ! जब भी आप धूप में निकलें तो इसकी दो बूंद सीधा जीभ पर डालें ! और यदि आको लू लग गयी है, तो इसकी दो बून्द हर दो घंटे में 4 से 5 बार मुँह में डाले ! एैसा करने से आप लू लगने sunstroke की समस्या से बच सकते हैं !

इसे भी अवश्य पढ़ें :- बोतल बन्द पानी के नुकशान

आशा है आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी, तो जनकल्याण के लिए इसे अपने Facebook और WhatsApp पर अवश्य शेयर करें !

एैसी ही अच्छीअच्छी जानकारी के लिए- Like करें हमारे पेज Rajiv Dixit Patrika को।

और एैसी ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए ग्रुप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें जीवन का आधार आयुर्वेद पर ! धन्यवाद  

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2019 Rajiv Dixit Patrika |