सर्दी खाँसी और जुकाम व टॉन्सिल्स का आयुर्वेदिक और घरेलू इलाज

सर्दी खाँसी और जुकाम व टोन्सिल
Spread the love

सर्दी खाँसी और जुकाम व टॉन्सिल्स का आयुर्वेदिक और घरेलू इलाज  

सर्दी खाँसी और जुकाम दोस्तों आज कल एक आम सी बीमारी हो गयी है ! लेकिन यह कोई छोटी मोटी बात नही इन्ही छोटी छोटी बिमारियों से कभी कभी बहुत बड़ी बीमारी खड़ी हो जाती हैं ! इसलिए सर्दी खाँसी और जुकाम का इलाज जितना जल्दी किया जाए तो अच्छा है ! और इसके लिए हमारे रसोई घर में बहुत सी औषधियाँ उपलब्ध हैं जैसे कि अदरक (GINGER) या सौंठ (DRY GINGER) यह अदरक के सुख जाने पर ही सौंठ बन जाता है ! और एक अच्छी दवा है वो है हल्दी (TURMERIC) तीसरी और सबसे अच्छी दवा (LIME) चुना है, चोथी औषधि किसमिस (RAISINS) है ! सर्दी खाँसी और जुकाम की और एक दवा दाल चीनी (CINNAMON) और मैथी दाना (FENUGREEK) भी इसमें इस्तेमाल किया जाता है ! ये इतनी सारी दवाएं हमारे घर में ही उपलब्ध है !

इसके अलावा हमारे आस पडोस में भी सर्दी खाँसी और जुकाम की कुछ औषधियां उपलब्ध हैं ! उनके नाम हैं तुलसी और काली मिर्च, और एक है शहद इन सभी औषधियों को हम कोम्प्लीमेंटरी (COMPLEMENTARY) प्रयोग कर सकते हैं ! अगर आपको T.B. या अस्थमा है तो यहाँ पर क्लिक करके इलाज जान सकते हैं !

हल्दी का प्रयोग गले की सारी बिमारियों को दूर करेगा :-

चाहे हमे सर्दी खाँसी और जुकाम हो या हमारा गला जितना भी खराब हो चिंता करने की कोई बात नही ! हमारे रसोईघर में इसकी सबसे अच्छी दवा हल्दी है ! यह गले की सारी बिमारियों में काम करती है ! जैसे कि गले में खरास, गले में कफ जमा हो जाना, गले में दर्द होना और तो और गले में टोन्सिल (TONSILLITIS) हो जाए तो भी आप इसके प्रयोग से ये सभी बीमारियाँ ठीक कर सकते हैं !

हल्दी का प्रयोग कैसे करें :-

इसके लेने की विधि बहुत ही आसान है ! हमे हल्दी का एक चोथी चमच सीधा गले में डालना है ! और अपना मुह कुछ देर के लिए बन्द रखना है  !  यह हल्दी अपने आप मुहँ की लार के साथ अंदर चली जाएगी और अंदर का सारा इन्फ्क्सं ( INFACTION ) ठीक कर देगी ! इस हल्दी की एक ही खुराक काफी है ! सायद इसको दोबारा लेने की जरूरत ही न पड़े !

बच्चों के टॉन्सिल्स का इलाज है हल्दी :-

आप देखते होंगे की जब छोटे बच्चों को सर्दी खाँसी और जुकाम या फिर टोन्सिल(TONSILLITIS) हो जाते हैं तो उनसे कुछ खया तक नही जाता और इनमे दर्द भी बहुत होता होता है ! एैसे में बच्चे सो तक नही पाते और जब माता पिता उसको डॉक्टर के पास लेकर जाते हैं !  तो डॉक्टर एक ही बात कहता है कि टोन्सिल का ओप्रेसन (TONSILLITIS -OPERATION) कर वालो ये तो काट कर ही निकालने पड़ेंगे ! इसकी कोई दवाई नही होती सिर्फ ओप्रेसन ही इसका इलाज है ! लेकिन आप को घबराने की जरूरत नही   चुप – चाप अपने घर आ जाइए ! और आधा चमच शुद्ध हल्दी उस बच्चे की गले में डाल दीजिये ! एैसा आपको एक सप्ताह में सिर्फ तीन बार करना है ! टोन्सिल अपने आप ठीक हो जाएगा !

खराब गला और सर्दी खाँसी और जुकाम के लिए  :-

गले की अन्य बीमारियाँ जैसे गले में खरास का होना, सर्दी खाँसी और जुकाम का होना इसके लिए हमे अदरक का रस प्रयोग करना चाहिए ! एक चमच अदरक का रस और थोडा शहद इसको हल्का गर्म करके लेना है ! इसके लेने का और एक तरीका है अदरक के रस में थोडा तुलसी का रस मिला लिजिये ! और इन दोनो को थोडा गर्म करके इसमें एक चमच शहद मिला कर ले सकते हैं ! इसमें एक बात ध्यान देने की है कि हमे शहद को कभी भी गर्म नही करना ! और अगर आप के पास शहद नही तो आप गुड का प्रयोग कर सकते हो !

औषधि लेने का सही समय और मात्रा :-

इसकी (DOSES) खुराक की मात्रा सभी को मिला कर एक चमच लेने है ! सही समय RIGHT TIME FOR MEDICINE सुबह खली पेट एक चमच ओर फिर दोपहर को और इसके बाद रात को सोते समय ! इसको सर्दी खाँसी और जुकाम के लिए इसको दिन में तीन बार तो लेना ही है ! गले की बीमारी में हल्दी को हम दूध के साथ भी ले सकते हैं ! लेकिन इसको अच्छे से उबलना (BOILING WITH MILK) पड़ेगा यदि आपके पास दूध नही है ! तो आप इसको पानी में भी उबाल कर ले सकते हो ! कुछ महत्वपूर्ण नेचुरल एंटीबायोटिक जो आपके घर पर ही मौजूद हैं !

गले की सारी बीमारियाँ एक बार में ठीक :-

गले में खरास हो गयी है, गला बैठ गया है, आवाज दब गयी है इन सभी समस्याओं में हल्दी को लेने का और एक तरीका है ! जिससे आप का गला बहुत जल्दी ठीक होगा ! उसके लिए एक चमच गाय का घी, एक चोथाई चमच हल्दी, एक गिलास दूध इन तीनों को अच्छे से उबाल लीजिये ! और लेने की विधि :- इसको गर्म गर्म और सिप सिप करके पीना है  इससे आपको बहुत जल्दी आराम आएगा !

चुना करेगा सर्दी खाँसी और जुकाम को खत्म :-

सर्दी खाँसी और जुकाम की एक और सबसे अच्छी दवा है चुना (LIME) इसको हम किसी भी खाने की वस्तु के साथ ले सकते हैं जैसे कि कोई भी जूस के साथ, दाल में डालकर या फिर पानी में मिलाकर लेना है !

खुराक (DOSES) की मात्रा वही रहेगी गेहूँ के एक छोटे दाने के बराबर ! इसको हम किसी भी समय ले सकते हैं ! इसमें एक बात का ध्यान हमेशा रखें जिनको भी पथरी की समस्या है ! उनको कभी भी चुना नही देना !

दोस्तों आशा है कि आप सब को यह सर्दी खाँसी और जुकाम की जानकारी अच्छी और उपयोगी लगी होगी ! इससे आप किसी गरीब की जान और उसका पैसा दोनों बचा सकते हो ! पूरा पोस्ट पढने के लिए धन्यवाद ! अन्य इलाज आप यहाँ से भी ले सकते हैं 

अधिक जानकारी के लिए राजीव दीक्षित जी का यह वीडियो देखें >>

मित्रो जन कल्याण के लिए इस जानकारी को अपने Facebook और WhatsApp पर जरुर शेयर करें धन्यवाद !

एैसी ही अच्छी – अच्छी जानकारी के लिए Like करें हमारे पेज Rajiv Dixit Patrika को।

और एैसी ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए ग्रुप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें जीवन का आधार आयुर्वेद पर ! धन्यवाद  

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2019 Rajiv Dixit Patrika |