कम्पोस्ट खाद या जैविक खाद कैसे तैयार करें और कैसे खेत में डालें

कम्पोस्ट खाद या जैविक खाद
Spread the love

कम्पोस्ट खाद या जैविक खाद कैसे तैयार करें और कैसे खेत में डालें ?

कम्पोस्ट खाद के बारे में जानने से पहले हमे रासायनिक कीटनाशकों यानि पेस्टीसाइडस के दुष्प्रभाव को जानना बहुत ही आवश्यक है ! तभी हम कम्पोस्ट खाद या जैविक खाद का सही मायने में महत्व समझ पाएंगे ! मित्रो यदि आप गाँव से हैं और खेती करते हैं ! या आप खेती करने वालों को जानते है ! या कभी एैसे ही देखा हो और देखा नही तो कहीं न कहीं सुना तो जरुर होगा कि आज – कल किसान खेत में  कीटनाशकों या पेस्टीसाइडस बहुत अधिक मात्रा में प्रयोग करने लगा है ! क्या आपको पता है इसका कारण क्या है ? मित्रो इसका सबसे बड़ा करण है इन कीटनाशकों या पेस्टीसाइडस की बार बार मन को लुभाने वाले ऐड यानि टीवी और रेडियो पर आने वाले विज्ञापन ! अब आप पूछोगे यह कैसे ? मित्रो यह बार – बार अपने इन विज्ञापनों में इस बात पर बहुत जोर देते हैं, कि हमारा यह कीटनाशक या पेस्टीसाइडस खेत में डालो तो आपकी फसल दो या तीन गुना हो जाएगी ! इससे शुरू में तो यह लगता है कि मानो जादू हो गया हो ! लेकिन यह जादू कुछ ही समय के लिए हुआ है !और कुछ समय बाद छू मंतर भी हो जाता है !

भोला किसान समझ नही पाता और इन  विज्ञापनों में फसता चला जाता है ! और इन  सबके दुष्परिणाम से अनजान होकर लगातार वह इन दूषित प्रोटेक्ट का प्रयोग अपनी फसलों पर करता रहता  है ! और बाद में होता क्या है ? समेत किसान पुरे देश को इसका बहुत सी बडी बड़ी बिमारियों के रूप में खामयाजा भुगतना पड़ता है !  जमीनें बंजर हो ही जाती है वो अलग ! किसान मित्रो से हाथ जोकर विनंती है कि वे इन चलाक विदेशी और एैसी ही स्वदेशी कम्पनियों से बचे ! अपने खेत के लिए स्वयं जैविक या कम्पोस्ट खाद तैयार करें ! जिससे देश तो स्वस्थ होगा ही साथ में देश का और आपका लाखों करोड़ रुपय भी बच जाएगा ! तो आइये सीख लेते हैं कि कम्पोस्ट खाद कैसे बनती है ?

जैविक खाद या कम्पोस्ट खाद तैयार करने की विधि :-

दोस्तों इसको तैयार करना बहुत ही सरल है ! हम यहाँ एक एकड़ यानि अढाई भीगा के लिए कम्पोस्ट खाद तैयार करने का सूत्र और मात्रा बताएंगे ! आप उसके आधार पर इसको जितना मर्जी जमीन के लिए बना सकते हैं, और प्रयोग कर सकते हैं ! किसना भाईयों को एक एकड़ के लिए कम्पोस्ट खाद में केवल 10 किलो गिला गोबर, फिर इसमें हम 10 लिटर मूत्र, और इसमें यह बात ध्यान रखें जिस जानवर का गोबर उसीका मूत्र लें ! जैसे कि गाय का गोबर तो गाय का ही मूत्र या भैंस का गोबर तो उसकी का मूत्र ! इसमें हम बैल का गोबर व मूत्र भी प्रयोग कर सकते हैं ! अब इसमें समस्या क्या है ? आप बोलोगे की गोबर तो इक्कठा हो जाएगा लेकिन मूत्र कैसे इक्कठा करें ? मूत्र इक्कठा करना बहुत ही आसान है ! आप जहाँ पर भी पशुओं को बांधते हो वहाँ एक अच्छी और पक्की नाली बना लें ! और उसके सामने एक गड्डा खोद दें सारा मूत्र उसमे अपने आप एकत्रित होता रहेगा ! और आपको आसानी से प्राप्त हो जाएगा !

इसमें एक सबसे अच्छी बात क्या है ? जानवरों के मूत्र की कोई एक्सपायरी डेट नही होती ! यह एक साल, दो साल या फिर पचास साल कभी भी खराब ही नही होता ! कम्पोस्ट खाद के लिए फिर इसमें मिलाना है एक किलो गुड ! आप जैसा मर्जी गुड इसमें मिलाएं ! जिस गुड को कोई नही खात वो भी चलता है ! गिला गिला , काला काला और पुराना वो गुड खेत के बहुत काम का होता है ! अब इसमें मिलाना है दाल का आटा ! आप कोई भी दाल ले सकते हो ! जैसे अरहर की दाल, मुंग की दाल या कोई भी दाल चलेगी ! अब ये चार चीजें हो गयी हैं मूत्र, गोबर, गुड, दाल का आटा ! अब हम इसमें मिलाएंगे आधा किलो मिट्टी और वो मिट्टी कहाँ से लें यह भी जानना बहुत जरूरी है ! किसान मित्रो यह मिट्टी हमे पीपल या बरगद के पेड़ की झड़ में से ही लेनी है ! अब यह जान लेते हैं कि यही मिट्टी क्यों ? यह मिट्टी इसलिए क्योंकि यही वो दो पेड़ एैसे हैं जो 24 घन्टे आक्सीजन देते हैं ! और ज्यादा आक्सीजन देने वाले पेड़ों के निचे जीवाणुओं की संख्या बहुत मात्रा में होती ! और यही जीवाणु हमारे खेत को चहिये और कम्पोस्ट खाद के लिए भी चाहिए ! इसलिए मिट्टी हम यहीं से लेंगे !

अब इन इक्कठी की हुई सभी पाँचों चीजों को एक ड्रम में घोल लो ! और अब इस घोल को 15 दोनों तक रख देना है !और यदि घोलने में दिक्कत हो तो इसमें थोडा पानी मिला सकते है ! पानी की मात्रा बहुत कम रखनी हैं ! सिर्फ 15 दिनों में यह कम्पोस्ट खाद तैयार हो जाएगा ! इसमें बहुत सारे सूक्ष्म जीवाणु उत्पन्न हो जाएंगे ! जो मिट्टी हमने उसमे डाली है मानो उसमे एक लाख जीवाणु थे तो वे 15 दिनों में बढकर 100 करोड़ हो जाएंगे ! और सबसे जरूरी बात इसको हमेशा ढक कर ही रखें और छाँव में ही रखें ! इसको धुप में भूलकर भी न रखें ! अब यह तैयार घोल को खेत में डालना है ! किसान का सबसे अच्छा मित्र कौन है यहाँ पर जाने 

खाद को खेत में कैसे डालें :-

खेत में डालने से पहले कम्पोस्ट खाद में हमे पानी मिलाना है वो भी गोबर से पूरा 10 या 20 गुना यानि 100 अधिक से अधिक 200 लिटर ! और इसको खेत में छिडकना है ! इसको आप हाथ से छिडकें या मशीन से दोनों अच्छा है ! कम्पोस्ट खाद से मिट्टी में जीवाणुओं की संख्या बढती जाएगी और मिट्टी को उपजाऊ बनाने का सारा काम यही जीवाणु ही करते हैं ! ये जीवाणु ही पौधे की जड़ों को नाइट्रोजन उपलब्ध कराते हैं ! पौधे की जड़ों को कैल्शियम चाहिए तो ये ही जीवाणु उपलब्ध करवाते हैं ! पौधे को आयरन भी यही देते हैं ! यानि पौधे को बढ़ा होने के लिए जो जो सूक्ष्म पोषक तत्व चाहिए वो सब यही उपलब्ध कराते हैं ! और जिस पौधे को यह सब मिलेगा तो वह बहुत ही अच्छी ग्रोथ करेगा ! और जिस पौधे की बढत अच्छी होगी वो बहुत अच्छा फल देगा !और जिसका फल अच्छा होगा तो उत्पादन तो अपने    आप अच्छा हो जाएगा !

कम्पोस्ट खाद को डालने की विधियां :-

कम्पोस्ट खाद को डालना बढ़ा ही आसान है ! आप पाँच विधियों से इसको प्रयोग कर सकते हो :-

  1. डब्बा से सीधा छिडकाव कर सकते हैं जैसे हम जमीन पर पानी छिडकते हैं ठीक वैसे ही !
  2. खेत में पानी लगते समय उस पानी में ही छोड़ दो अपने आप काम बन जाएगा !
  3. लड्डू की तरह गोले बनाकर भी खाद को खेत में फेंक सकते हैं !
  4. इसको थोड़ी सी मिट्टी में मिलाकर छोटे छोटे लड्डू बनाकर भी पुरे खेत में फेंक सकते हैं !
  5. यदि आपके पास स्प्रे मशीन है तो उसका नोजल निकाल कर स्प्रे कर सकते हो !

इसमें ध्यान यह रखें कि यह स्प्रे हमे फसल पे नही करना बल्कि यह जमीन पे करना है ! यदि फसल पर कर दिया तो इसका कोई लाभ नही मिलेगा ! बड़ी फसल में पानी के साथ ही खाद डालने का फायदा है !

 खेत में डालने का सही समय :-

खेत में कम्पोस्ट खाद को डालने का सबसे सही समय है जब आप खेत की जुताई करते हो, तब ही यह खाद डालना है ! ये हुआ पहली बार ! फिर पांच दिन के बाद बिजाई कर दो ! और बिजाई 21 दिन के बाद फिर खाद डालो ! क्योंकि बीज 21 दिन तक जमीन के अन्दर ही अंकुरण होता है ! और इसके बाद यह बाहर निकलता है ! और सूर्य के प्रकाश ( प्रकाश संसलेष्ण ) और ताकत से बढ़ना शुरू करता है ! यह कम्पोस्ट खाद हमे हर 21 वें दिन डालनी है ! यानि यह मान लेते हैं कि एक फसल अगर 4 महीने की है तो, यह खाद पाँच बार डालना पड़ेगा !

 खाद बनाने में खर्च कितना होता है ?

खर्च की बात की जाए तो कम्पोस्ट खाद बनाने में यह नाम मात्र ही होता है ! मित्रो अगर आपके पास पशु है तो गोबर है, मूत्र है, गुड, पीपल की मिट्टी और दाल का आटा सब हमारे घर में ही उपलब्ध है ! बस हमे मेहनत करनी है ! जिससे हमरा बहुत सारा पैसा बच जाता है ! जो हम बेकार के किट नाशकों पर खर्च करते हैं ! कम्पोस्ट  खाद जो हमने घर पर ही तैयार की है, यह बहुत ही उच्च क्वालटी की है ! इसमें खेत के लिए सब कुछ है जैसे कि केल्शियम, आयरन, फासफोर्स क्या नही है इसमें ! गोबर में सब कुछ है केल्शियम, आयरन, फासफोर्स, सिलिकोन, सल्फर, कोबोल्ट, मैग्नीशियम  एैसे 18 सूक्ष्म पोषक तत्व मौजुद हैं जो मिट्टी को चाहिए ! और गुड में भी ये सभी तत्व भरपूर मात्रा में हैं ! और मूत्र में भी ये सभी तत्व होते हैं !

एक सीधा सा मतलब जो सूक्ष्म पोषक तत्व हमारे शरीर को चाहिए वो ही सूक्ष्म पोषक तत्व मिट्टी को भी चाहिए ! और यह सब इस कम्पोस्ट खाद में भरपूर मात्रा में है ! लेकिन यह सब तत्व ना तो यूरिया में है और न ही किसी डी ए पी में ! इन दोनों में केल्शियम भी नही जो मिट्टी का आधार होता है ! क्योंकि जब खेत में केल्शियम होगा तो पौधे में केल्शियम होगा ना, और पौधे में होगा तो फल में होगा, और उससे हमे यह केल्शियम मिलेगा ! जिससे हमारा शरीर मजबूत बनेगा ! हमारी हड्डियाँ मजबूत होंगी !और ये सार साइकिल उसी के उपर चलता है ! और यह सब सिर्फ गोबर की खाद से ही मिल सकता है ! यूरिया और डी ए पी में तो एैसा कुछ भी नही होता ! किसान यह समझ जाए तो सब ठीक हो जाएगा ! Treatment for high B.P.

किट या कीड़े के लिए कम्पोस्ट खाद स्प्रे कैसे बनाएँ :-

कीड़े या कीटों को भगाने के लिए यदि कम्पोस्ट खाद बनानी  है ! तो इसके लिए हमे 20 लिटर गौमूत्र या किसी भी पशु का मूत्र लें ! इसमें 3 किलो नीम के पत्ते की चटनी बनाकर मिलाना है ! आक के पत्ते की चटनी 3 किलो, तीसरा जो पत्ता लेना है वो है बेशर्म का पत्ता ! 2 किलो इसका पत्ता लें इसके अलावा सीता फल या सरीफा का पत्ता भी इतनी ही मात्रा में लें ! 2 किलो कांग्रेस घास उसको चटनी बनाकर मिला दो ! और इसमें खूब तीखी लाल या हरी मिर्च 300 ग्राम और आधा किलो लहसुन पीसकर डाल दो ! इसको बनाने का एक मोटा सा फार्मूला है जिन जिन पत्तों को देशी गाय नही खाती, वो सब इसमें डाल सकते हैं ! इस सारे घोल को अच्छी से पीस कर उबाल लो, और ठंडा करके 200 लिटर पानी में मिलाकर ! इसका स्प्रे फसल पर कर दो तो यह केवल दो या तीन दिन में ही, सारे किट और कीड़े खत्म कर देता है ! इसमें आपका एक पैसा नही लगेगा और बाजार से भी कुछ नही लाना ! यह कम्पोस्ट खाद किट नाशक हर तरह की फसल में काम करता है !

इस खाद के अन्य फायदे :-

आप सोच रहे होंगे की पता नही उत्पादन कैसा होगा ? किसान मित्रो घबराने की आवश्यकता नही ! पहले साल थोडा कम होगा लेकिन कुछ ही वर्षों में उत्पादन दो या तीन गुना होने की गारंटी है ! अगर यह कम्पोस्ट खाद का काम हर गाँव में हो जाए, तो देश भर के किसानो का 4 लाख 80 हजार करोड़ हर साल बच सकता है !और इसमें 2 लाख 32 हजार करोड़ शहर वालों का भी बचेगा ! और जो देश के बाहर से 7 लाख करोड़ का रासायनिक किट नाशक आता है वह पैसा भी देश का बचेगा ! यानि यह कम्पोस्ट खाद देश का लगभग 14 लाख करोड़  रुपए बचा सकती है ! और जो देश स्वस्थ होगा उसका तो मूल्य ही नही लगा सकते !

अधिक जान करी के लिए यह वीडियो देखें >>

दोस्तों आशा है कि आपको कम्पोस्ट खाद की यह जानकारी अच्छी लगी होगी ! इसका प्रयोग करके हम अपने पैसे के साथ – साथ अपना स्वास्थ्य भी बचा लेंगे ! पूरा पोस्ट पढने के लिए धन्यवाद,

मित्रो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook और WhatsApp पर अवश्य शेयर करें !

एैसी ही अच्छी – अच्छी जानकारी के लिए Like करें हमारे पेज  Rajiv Dixit Patrika को।

और एैसी ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए ग्रुप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें जीवन का आधार आयुर्वेद पर ! धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2019 Rajiv Dixit Patrika |