भारत का नाम इंडिया INDIA कैसे पड़ा ? किस की करामात है यह ?

भारत का नाम इंडिया कैसे पड़ा ?
Spread the love

भारत का नाम इंडिया INDIA कैसे पड़ा ? किस की करामात है यह ?

दोस्तों यदि हम प्राचीन आधार पर माने कि भारत का नाम इंडिया कैसे पड़ा ? तो इसके लिए हमे भारत के इतिहास को जानना होगा ! आर्यवर्त, भारत, हिंदुस्तान और इंडिया मित्रो ये सारे नाम हमारे देश के ही हैं ! लेकिन ये सभी नाम अलग – अलग काल, समय और व्यक्तियों द्वारा दिए एवं प्रयोग किये गए हैं ! प्राचीन समय में भारत का नाम एक ही था और वो था आर्यवर्त !

इसका यह नाम इतना पुराना है कि जिसकी कोई सीमा ही नही ! यह नाम हमे अपने सबसे पुराने ग्रन्थों रामायण, गीता, और महाभारत में भी देखने को मिल जाता है ! लेकिन इस आर्यवर्त पर, यानि भारत पर बहुत बार विदेशियों ने आक्रमण किये, और उन्होंने इस देश को बहुत से अलग अलग नामों से बुलाया !

BBC की रिपोर्ट के अनुसार भारत का नाम इंडिया क्यों पड़ा:

यदि BBC की रिपोर्ट के अनुसार देखें तो भारत का नाम इंडिया  करने के लिए यूनानी और इरानी दो स्त्रोत माने गये हैं ! क्योंकि इरानी या फ़ारसी में हिन्दू शब्द का रूप बदलकर सिन्धु और यूनानी में A से बना INDOS हुआ ! और इसके बाद यह शब्द लेटिन  में भी प्रयोग किया जाने लगा, और वहाँ पर इसको INDIA बोला गया ! लेकिन यह INDIA शब्द उस समय में किसी को ज्ञात ही नही था !

और इसके अलावा कोई भी देशवासी इस शब्द को जानता भी नही था ! तो कोई क्यों भारत को इंडिया पुकारता ! लेकिन जब भारत पर अंग्रेजों का राज हुआ तो उन्होंने भारत की जगह इसको इंडिया बुलाना शुरू कर दिया ! अंग्रेज यहाँ तक ही नही रुके उन्होंने भारत के जितने भी दस्तावेज बनाए उन सब में भारत को इंडिया ही लिखा गया ! ये बात तो हुई की कैसे बाहर के लोगों ने भारत को इंडिया कहा ! आओ अब देख लेते हैं कि आजादी के बाद भी भारत में और कौन चाहता था कि भारत का नाम इंडिया ही रहे ?

इसे भी पढ़ें :- प्लास्टिक सर्जरी का आविष्कार किसने किया ?

आजादी के बाद भी भारत का नाम इंडिया क्यों :-

क्योंकि यह भारत नाम हजारों सालों से चला आ रहा था और लोगों को भी यह नाम अच्छा लगता था ! और इसके साथ बहुत सी गाथाएं और कथाएँ भी जुडी थी ! लेकिन जब देश आजाद हुआ और सत्ता नये शासकों के हाथ में आई ! यानि कांग्रेस के हाथ में आई तो उन्होंने देश के नामकर्ण के लिए एक बैठक बुलाई ! कि हमे देश का नाम बदलना चाहते है ! कुछ लोगों ने कहा वो किस लिए ? तो इस पर भारत के नये बने प्रधानमंत्री नेहरु को यह लग रहा था, कि पुराना नाम देश की गुलामी की याद दिलाता रहेगा !

India है नेहरु की मानसिकता

यही नही नेहरु को लग रहा था, कि  यदि देश का नाम भारत ही रहा तो इससे दुसरे देश हमे पिछड़े हुए समझेंगे ! एैसे – एैसे तर्क भी  दिए गए ! क्योंकि यह नेहरु की चाल थी कि यदि देश का नाम भारत ही रहा,  तो भारत का इतिहास भी नही बदलेगा ! फिर से वही रामायण, वही महाभारत और वही कोटिल्य शास्त्र होगा ! तो इस सब को खत्म करने के लिए और निजी स्वार्थ पूर्ति के लिए नेहरु ने सोचा, कि भारत का नाम इंडिया रख दिया जाए, तो भविष्य में इसका श्रेय मुझे ही मिलेगा ! और मेरी आने वाली पीढियां ही देश पर राज करेंगी ! इस तरह कांग्रेस का राज होने के कारण नेहरु ने अपनी मनमानी करके भारत का नाम इंडिया कर दिया !

और अधिक जानकारी के लिए यहाँ पर क्लिक करें

दोस्तों आशा है कि आपको यह जानकारी भारत का नाम इंडिया कैसे पड़ा ? अच्छी लगी होगी, क्रप्या इसको अधिक से अधिक शेयर करें ! ताकि सब को पता चले कि यह घटिया काम किसने किया !

अधिक जानकारी के लिए यह वीडियो देखें >> 

आशा है आपको यह भारत से इंडिया बनने की जानकारी अच्छी लगी होगी ! तो जन जागरण के लिए इसे अपने Facebook और Whatsapp पर अवश्य शेयर करें ! 

एैसी ही अच्छी अच्छी जानकारी के लिए- Like करें हमारे पेज Rajiv Dixit Patrika को।

और एैसी ही अन्य रोचक जानकारियों के लिए ग्रुप ज्वाइन करें। जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें जीवन का आधार आयुर्वेद पर ! धन्यवाद  

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2019 Rajiv Dixit Patrika |