पेट में एसिडिटी होने के कारण व घरेलू उपचार और निवारण 

पेट में एसिडिटी
Spread the love

पेट में एसिडिटी होने के कारण व घरेलू उपचार और निवारण

पेट में एसिडिटी वैसे तो यह एक छोटी बीमारी है जो किसी को भी हो सकती हैं ! और आमतौर पर यह हमारे खाने और पिने की वजह से होती  है ! लेकिन बार – बार पेट में एसिडिटी होना किसी बड़ी बीमारी को भी बुला सकता है ! आज कल की जीवन शैली इसका मुख्य कारण है ! मित्रो क्योंकि यह जमाना कम्पीटीशन का है ! और यह कम्पीटीशन एैसा हो गया है मानो कोई भी इसमें पीछे नही रहना चाहता, इसमें पीछे रह गया है तो सिर्फ हमारा स्वास्थ्य ! और इसी कारण पेट में एसिडिटी , गैस और तजाब जैसी बहुत सी समस्याओं को उत्पन होती है ! और इसके अलावा मित्रो आज कल खाने की कवालटी दिन पर दिन घटती  जा रही है ! क्योंकि अनाज के पैदा होने से खाने योग्य होने तक पता नही कितने तरह के कैमिकल उसमे मिलाए जाते हैं ! और ये कैमिकल ही पेट में एसिडिटी के साथ साथ अन्य बिमारियों का कारण भी बनते हैं !

पेट में एसिडिटी होने के मुख्य कारण :-

  1. समय पर भोजन न करना पेट में एसिडिटी होने का सबसे प्रमुख कारण होता है ! जब हमे भूख लगती है और हम अपने काम में लगे होने के कारण उसको कुछ समय के लिए इसको एवोइड कर देते हैं ! और कभी कभी बिलकुल भोजन नही करते तो इससे होता क्या है ? जब हमे भूख लगती है तो हमारे लीवर में भोजन पचाने वाले एंजाइम उत्पन होते हैं और कुछ समय तक ये खाने का इंतजार करते हैं ! और यदि हम खाना नही खाएं गे तो ये एंजाइम खत्म होने लगते हैं !जिससे पेट में एसिडिटी और बदहजमी जैसी समस्या पैदा होने लगती है !
  2. बाहर का खाना भी पेट में एसिडिटी का एक सबसे बड़ा कारण होता है ! आज कल काम में ज्यादा व्यस्त होने के कारण लोगों के पास अपने लिए खाना बनाने तक का समय भी नही है ! और इस वजह से बाहर का खाना पड़ता है, इस खाने को स्वादिष्ट और सुंदर बनाने के लिए इसमें पता नही कौन कौन से केमिकल्स और मसाले का प्रयोग करते ! और जब एैसा खाना हम खाते हैं उस समय खाने में तो बड़ा मजा आता है लेकिन हमारे लीवर पर इसका जो दुष्परिनाम होता है ! उसका हमे बहुत बाद में पता चलता है !
  3. चाय कोफ़ी के अधिक सेवन भी पेट में एसिडिटी और में तजाब का कारण बनता है ! चाय कोफ़ी कोई आम पेय पदार्थ नही हैं ! इनका सेवन हमेशा लो बी.पी वालो को ही करना चाहिए और बहुत ही कम मात्र में करना चहिये ! अगर खाना खाने के बाद चाय या कोफ़ी पीली तो आपका खाया हुआ खाना कभी हजम नही होगा ! और जब खाना हजम नही होगा तो यह पेट में सड़ेगा और एसिडिटी में बदल जाएगा ! इस लिए चाय और कोफ़ी जितना कम हो सकते उतना कम प्रयोग करें !
  4. नशीले पदार्थ और शराब का सेवन भी पेट में एसिडिटी और तजाब का कारण सबसे बड़ा कारण है ! शराब और नशीले पदार्थ शरीर में सबसे ज्यादा हमारे लीवर पर प्रभाव डालते हैं ! शराब के कारण शरीर में खून की कमी होने लगती है और खून में अम्ल्यता भी बढने लगती है ! जिस कारण कई बार पेरालिसिस का खतरा भी बढ़ जाता है !
  5. बहुत लम्बी बिमारी के कारण भी पेट में एसिडिटी और तजब बनने लगती है ! आपने देखा भी होगा कि जब कोई बीमार होता है, तो दवाई के साथ डॉक्टर मरीज को एसिडिटी की दवा सबसे पहले देते हैं ! क्योंकि एलोपैथी दवा भी पेट में जाकर एसिड पैदा करती है और पाचनक्रिया पर भी इनका प्रभाव पड़ता है !
  6. बहुत अधिक खट्टी और तली हुई चीजों का सेवन करने से भी पेट में एसिडिटी और तजब बनने लगता है ! क्योंकि एसे पदार्थ अम्लीय होते हैं और ये जल्दी से पच भी नही पाते इस लिए जिस भी व्यक्ति को अम्लता बढने की समस्या है और ऐसे में वह और अधिक अम्लीय या खट्टे पदार्थ का सेवन करेगा तो उस व्यक्ति को तजाब और एसिडिटी भी ज्यादा बढने लगती है !

पेट में एसिडिटी को ठीक रकने के घरेलू उपाय :-                   

  1. मित्रो कोई भी बीमारी या रोग हमारे शरीर में अनियमितता के कारण ही होती है ! इसके लिए वाग्भट जी ने भी कुछ सूत्र हमे दिए हैं ! और यदि हम इन सूत्रों का ही प्रयोग कर लें तो हमे कभी भी पेट में एसिडिटी और गैस नही बनेगी ! तो आइये सूत्र जान लेते हैं !

पेट में एसिडिटी और गैस को खत्म करने के लिए वाग्भट जी ने जो सूत्र दिया है वो है “भोजनान्ते विषम वारि” यानि भोजन के अन्त में यानी खाना खाने के बाद कभी भी पानी नही पीना चाहिए ! इससे होता क्या है ? जब हम खाना खाता हैं तो सारा खाना पेट में जाता है और जहाँ खाना जाता हैं वहाँ खाने को पचाने के लिए अग्नि जलती है ! हम उस अग्नि को जठराग्नि भी कहते है ! और यदि हम खाने के उपर ठंडा पानी पियेंगे तो यह उस अग्नि को शांत कर देगा ! और हमारा खाया हुआ भोजन कभी भी नही पचेगा ! इसके बाद होगा क्या ? अब यह खाया हुआ भोजन पेट में सड़ने लगता है !और यह 103  तरह की बिमार्रियों का कारण बनता है ! जिसमे सबसे प्रमुख है पेट में एसिडिटी और तजाब का बनना ! इसलिए आज ही यह नियम बना लें कि खाना खाने के बाद कभी भी पानी नही पीना !

  1. पेट में एसिडिटी और तजाब को कंट्रोल करने के लिए अपने रसोईघर में ही बहुत सारी औषधियां उपलब्ध हैं ! और इनमे सबसे प्रथम स्थान पर आता है जीरा ! मित्रो यह कोई मसाला नही बल्कि एक औषधि है ! क्योंकि हमारे शास्त्रों में आपको कहीं पर भी किसी मसाले का जिक्र नही मिलेगा ! उस समय इनको औषधियों के रूप में ही जाना जाता था ! जीरे का प्रयोग करना भी बहुत ही आसान है ! आप एक चमच जीरा और एक गिलास पानी को अच्छी तरह से उबाल लें, और इसको ठंडा करके चाय की तरह से घुट घुट करके पियें ! एैसा करने से कुछ ही समय बाद आपके पेट में एसिडिटी और अपाचन की समस्या बिलकुल खत्म हो जाएगी !
  2. पानी को उचित मात्रा में पीने से भी पेट में एसिडिटी नही बनती ! इसलिए हमे सुबह उठते ही सबसे पहले कम से कम 3 गिलास पानी जरुर पिने चाहिए ! और पुरे दिने में हमे 8 से 12 गिलास पानी का सेवन जरुर करना चाहिए ! क्योंकि पानी शरीर में जमी सारी गंदगी को बाहर निकाल देता है ! जिससे लीवर भी बिलकुल फ्रेस हो जाता है ! और पेट में एसिडिटी, गैस और तजब बनने का कोई चान्स ही नही रहता ! पित के अन्य रोगों की जानकारी के लिए
  3. ठंडा दूध भी पेट में एसिडिटी को बनने से रोकता है ! जब भी किसी को बहुत ज्यादा एसिडिटी की प्रोब्लम हो तो उसको एक गिलास कच्चा और ठंडा दूध पिलाने से भी ठीक हो जाता है !
  4. पेट में जितनी भी तकलीफें हैं उनका सबसे उतम इलाज है निम्बू और शहद की सिकंजी ! इसको बनाना भी बहुत आसान है ! दो या चार चमच शहद और एक निम्बू का रस एक गिलास पानी में मिलाकर सेवन करने से भी पेट की एसिडिटी और गैस में आराम मिलता है !
  5. सबसे अच्छा उपाय जिस भी व्यक्ति को पेट में एसिडिटी या तजाब बनता है ! उसको रात को सोते समय एक चोथाई चमच अजवायन के साथ थोडा गुड और गर्म पानी दें ! एैसा करने से केवल तीन से चार दिन में ही पेट की यह समस्या हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी !
  6. पेट में एसिडिटी गैस तजाब और अम्ल्यता को ठीक करने की सबसे अच्छी औषधि त्रिफला है ! हम इसको अलग अलग समय – अलग अलग तरह से प्रयोग कर सकते हैं ! त्रिफला आधा चमच दिन में दिन में दो बार नोर्मल पानी के साथ लेने से बहुत फायदा होता है ! यदि हम इसको रात को सोते समय गर्म दूध या गर्म पानी से लें तो जीवन भर पेट में एसिडिटी गैस तजाब और अम्ल्यता नही हो सकती !
  7. अंतिम और एक अच्छी औषधि वो है अंगूर का फल, जी हाँ मित्रो यदि इसको सुबह के समय खाया जाए तो आपको कभी भी पेट की कोई भी समस्या नही हो सकती ! यह शरीर में पानी की मात्रा को कम नही होने देता ! अंगूर बहुत से विटामिनों का भंडार है ! जब शरीर में विटामिन की कमी हो तो भी पेट में एसिडिटी, गैस, तजाब व सिर दर्द आदि की समस्या हो जाती है ! इस लिए अंगूर एक अच्छी औषधि का काम करता है और इसका भरपूर सेवन करना चाहिए ! एसिडिटी के अन्य कारण 

मित्रो आशा है कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी ! इससे आप अपना और दूसरों का भी फायदा कर सकते हैं ! पूरा पोस्ट पढने के लिए धन्यवाद !

अधिक जानकारी के लिए राजीव दीक्षित जी का यह वीडियो देखें >>

जन कल्याण के लिए इस जानकारी को अपने  Facebook और Whatsapp पर शेयर करें !

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2019 Rajiv Dixit Patrika |