आयुर्वेद कितना पुराना है ? How much old is Ayurveda

आयुर्वेद कितना पुराना है ?
Spread the love

आयुर्वेद कितना पुराना है ? How much old is Ayurveda

दोस्तों आयुर्वेद कितना पुराना है ? इस विषय पर बहुत अधिक भ्रांतियां है ! आयुर्वेद संसार के सबसे पुराने ग्रन्थों में से एक है! और आयुर्वेद कितना पुराना है और इसकी  चिकित्सा पद्दति कितनी पुरानी हैं ? दोस्तों यह आयुर्वेद दो शब्दों के मेल से बना है आयुष और वेद यानि इसका सीधा सा मतलव है कि यह मनुष्य के स्वस्थ्य से सम्बन्ध रखने वाला है ! और वेद कोई भी साहित्य !

मित्रो आयुर्वेद कितना पुराना है इसका अध्यन करने और समझने में सूर्य का बहुत ही गहरा नाता है ! तो इस आधार पर भी यह आँका जा सकता है कि यह कितना पुराना है ? क्योंकि सूर्य ही सारे विश्व को शक्ति प्रदान करता है और पुरे संसार का केद्र बिन्दु भी यही है ! और एक बात समझने वाली यह है कि क्या आयुर्वेद यूरोप जितना पुराना है या फिर भारत जितना ! इसको समझने के लिए हमे सूर्य को समझना बहुत ही आवश्यक है ! और हमे यह तो पता ही कि यूरोप में सूर्य कम उगता है और भारत में ज्यादा ! तो सायद भारत में ही आयुर्वेद ने जन्म लिया होगा ! और इसका सीधा सा मतलब है कि आयुर्वेद उतना पुराना तो है ही जितना पुराना भारत है !

विदेशी इतिहास कारों के अनुसार आयुर्वेद कितना पुराना है ?

आयुर्वेद कितना पुराना है  इसके बारे में विदेशी इतिहास कारों में भी एक मत नही हैं ! इनमे से कुछ कहते हैं कि भारत का आयुर्वेद 2000 से 2500 पुराना ही है लेकिन जर्मन के वैज्ञानिक इसको 3500 साल पुराना मानते हैं ! और कुछ अन्य का मत है कि यह इससे भी ज्यादा पुराना है यह लगभग दस हजार साल पुराना है ! यानि कोई कहता है दस हजार साल, कोई कहता है डाई हजार और कोई कहता है साडे तीन हजार साल एैसा क्यों ? एैसा इसलिए है क्योंकि उनको पता ही नही वे बस अपनी अपनी बुद्धि के अनुसार यह गणना कर रहे हैं !

इसे भी पढ़ें :- जाने रानी लक्ष्मी बाई की म्रत्यु का जिमेदार कौन है 

भारत के अन्य पुराणों के अनुसार आयुर्वेद कितना पुराना है ?

सभी विदेशियों ने आयुर्वेद कितना पुराना है ? इस पर अपनी अपनी बुद्धि और मत से कुछ कुछ कहा ! लेकिन यह उससे भी बहुत प्राचीन है क्या आपको याद है ? जब रामायण में लक्ष्मण को जब तीर लगता है और हनुमान जी बूटी लेने के लिए गये थे, तो उनको संजीवनी बूटी समझ में नही आई और वे पूरा पर्वत ही उठा लाए थे ! उस पर्वत पर एकाद नही बल्कि लाखों की सोख्य में अलग – अलग रोगों के लिए औषधियां मौजूद थी ! इसकी के बल पर लक्ष्मण जी को ठीक किया व बाद में जब रावण से युद्ध हुआ तो घायल सैनिकों को ठीक करने के लिए भी औषधियां इसी पर्वत से मिल थी ! और उसके के बल राम जी युद्ध जीत गये थे ! इस आधार पर भी देखें कि आयुर्वेद कितना पुराना है, तो यह साडे आठ लाख साल पुराना है !

श्री रामचन्द्र जी के अनुसार :-

इसके आलावा श्री रामचन्द्र जी ने यह भी कहा है कि उनके सभी पूर्वज आयुर्वेद के महान ज्ञाता थे, तो इस आधार पर गणना करें तो एैसे में तो यह समय कितना पुराना है ! इसका पता ही नही चल सकता है ! इन सब के बाद राजीव दीक्षित जी कहते हैं कि मैने अपने आधार पर यह मान लिया है, कि यह आयुर्वेद यानि जडी-बुटीयों का ज्ञान उतना ही पुराना है जितना की भारत ! वैसे तो भारत की उम्र का सही से पता लगा पाना सम्भव नही !

लेकिन सबसे पुराने जैन शास्त्रों के आधार पर देखा जाएतो जो भगवान आदि नाथ से शुरू होती है, और भगवान आदि नाथ का समय किसी भी कल्पना से परे बहुत लम्बा है ! यानि यह समाय ना तो कुछ हजार वर्षों ना ही कुछ लाखों साल, बल्कि यह तो कुछ करोड़ वर्षों से है ! यानि इसका सीधा सा अर्थ यह है, कि भारत भी तभी से है और भारत की ये जडीबुटीयां भी तभी से विद्यमान है ! इन सभी चीजों में जो एक घहरी समानता है !

आयुर्वेद और सूर्य में सम्बन्ध :-

अगर आयुर्वेद की उम्र जानने के लिए सूर्य को आधार माने हैं, तो क्योंकि सूर्य का प्रकाश यह उस समय भी था और आज भी है ! और इसी सूर्य की उर्जा से जैवविविधता उस समय भी हई होगी जैसी आज हो रही है ! तो मित्रो अगर यह सब अध्यन करते हैं, तो हमारा आयुर्वेद कुछ समय नही बल्कि बहुत अधिक समय पुराना है !

दोस्तों आशा है कि आपको आयुर्वेद की यह जानकारी अच्छी लगी होगी, पूरा पोस्ट पढने के लिए धन्यवाद

आयुर्वेद कितना पुराना है  इसकी अधिक जानकारी के लिए यह वीडियो अवश्य देखें >>

For more information in English

मित्रो जन कल्याण के लिए इस जानकारी को अपने Facebook और WhatsApp पर जरुर शेयर करें धन्यवाद !

एैसी ही अच्छी अच्छी जानकारी के लिए Like करें हमारे पेज Rajiv Dixit Patrika को।

और एैसी ही रोचक जानकारियों के लिए ग्रुप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें जीवन का आधार आयुर्वेद पर ! धन्यवाद  

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2019 Rajiv Dixit Patrika |